पूर्वांचल प्रहरी -ज्ञान का सागर -आओ ज्ञान बांटे(65)

पूर्वांचल प्रहरी

ज्ञान का सागर

आओ ज्ञान बांटे(65)

तंत्रिका कोशिका मानव शरीर की सबसे बड़ी कोशिका है।


महाधमनी मानव शरीर की सबसे बड़ी धमनी है।


मानव शरीर में सर्वाधिक मात्रा में पाया जाने वाला पदार्थ जल (60-75%) है।


शुक्राणु मानव शरीर की सबसे छोटी कोशिका होती है। यह एक नर जनन कोशिका है।


एड्रीनलीन हार्मोन को ‘करो या मरो’ हार्मोन भी कहा जाता है।


हाइपोथेलेमस ग्रंथि को ‘सुपर मास्टर (Head Master)’ ग्रंथि कहा जाता है।


जबड़े की हड्डी मानव शरीर की सबसे मजबूत हड्डी होती है।


मानव शरीर की सबसे छोटी हड्डी स्टेपीज है जो कर्ण में होती है।


सबसे लम्बी हड्डी फीमर (जांघ में) होती है।


4° से. तापक्रम पर जल का घनत्व अधिकतम होता है।


बॉक्साइट एल्युमिनियम का प्रमुख खनिज होता है।


रुधिर की कमी से एनीमिया रोग हो जाता है।


विटामिन सी घाव भरने में सहायक है।


केले में अनिषेक जनन पाया जाता है।


तिलचिट्टा में रुधिर रंगहीन होता है।
तम्बाकू में निकोटिन नामक विषैला पदार्थ होता है।


मूत्र का पीला रंग यूरोक्रोम नामक वर्णक के कारण होता है।


बीयर किण्वन से बनाई जाती है जबकि शराब आसवन से बनाई जाती है।


परावर्तन के कारण हमें वस्तुएँ दिखाई देती हैं।


आसंजक बल के द्वारा लिफाफे पर डाक टिकट चिपकी रहती है।


एन्थ्रेसाइट प्रकार का कोयला उत्तम गुणवत्ता का होता है। इसमें कार्बन सर्वाधिक मात्रा में होता है।


द्रव्यमान का मात्रक किलेग्राम तथा भार का मात्रक न्यूटन होता है।


पारा, सिजियम, गैलियम द्रव धातु होते हैं, शेष ठोस धातु होते हैं।


–40° सेन्टीग्रेड तथा –40° फॉरेनहाइट समान होते हैं।


सोयाबीन में सर्वाधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है।


प्रोटीन की कमी से– क्वाशिओस्कारे तथा मेरेस्मस रोग हो जाते हैं।


सोडियम स्वतंत्र अवस्था में जल उठता है, अतः इसे केरोसीन में रखा जाता है।


सफेद फास्फोरस को पानी में रखा जाता है।


चाँदी विद्युत का सर्वोत्तम चालक होता है।


पृष्ठ तनाव के कारण पानी की बूँदे गोल हो जाती हैं।


राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी को मनाया जाता है।


कार्बन डाइऑक्साइड गैस ग्रीन हाऊस प्रभाव के लिए प्रमुख उत्तरदायी गैस है।


ओजोन मंडल पराबैंगनी किरणोँ को अवशोषित कर पृथ्वी के जीवोँ की रक्षा करता है।


कार्बन डाइऑक्साइड का प्रयोग आग बुझाने के लिए किया जाता है।
पहला हृदय प्रत्यारोपण डॉ. क्रिस्टियन बर्नार्ड द्वारा किया गया था।


भारी जल परमाणु भट्टी में मंदक के रूप में प्रयुक्त होता है।


एबी रूधिर वर्ग वाले मानव को सार्वत्रिक ग्राही तथा ओ रूधिर वर्ग वाले मानव को सार्वत्रिक दाता कहते हैं।


लाल रूधिर कणिकाओँ का निर्माण अस्थिमज्जा में होता है तथा श्वेत रूधिर कणिकाओँ का निर्माण अस्थिमज्जा, प्लीहा व लसिका कोशिकाओँ में होता है।


रक्त का लाल रंग हीमोग्लोबिन नामक प्रोटीन में मौजूद लौह तत्त्व के कारण होता है।


क्लोरोफार्म का प्रयोग निश्चेतक (बेहोश करने वाला पदार्थ) के रूप में किया जाता है।


मानव शरीर में 206 हड्डियाँ होती हैं।
टंगस्टन सबसे कठोर पदार्थ होता है।
एंजाइम विशेष प्रकार के प्रोटीन होते हैं।


यकृत मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि होती है।


लाल रुधिर कणिकाएँ केन्द्रक विहीन कोशिकाएँ होती हैं।


वायुमंडल में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्त्व नाइट्रोजन है।
स्टैथोस्कोप से हृदय की धड़कनोँ को सुना जा सकता है।


0° केल्विन तापक्रम को परम शून्य तापमान कहते हैं। –273° से. का केल्विन में मान 0° केल्विन होता है।


भू-परत में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्त्व ऑक्सीजन है।


समतल दर्पण में वस्तु का प्रतिबिम्ब समान दिखाई देता है जिसका उपयोग घरोँ में किया जाता है।


उत्तल दर्पण मोटर वाहन चालक उपयोग में लेते हैं।


चिकित्सक कान, नाक, गले आदि के आंतरिक भागोँ की जाँच के लिए अवतल दर्पण का प्रयोग करते हैं।


सोडियम बाइकार्बोनेट को बैकिँग सोडा कहा जाता है।


परमाणु बम नाभिकीय विखंडन पर आधारित है।


लाल, हरा तथा नीला प्राथमिक रंग हैं।


इन्द्रधनुष में बैंगनी, जामुनी, नीला, हरा, पीला, नारंगी तथा लाल रंग (बैंजानीहपीनाला) होते हैं।


सर्वाधिक तरंग दैर्ध्य लाल प्रकाश का तथा सबसे कम बैंगनी प्रकाश का होता है जबकि सर्वाधिक विचलन बैंगनी रंग का तथा सबसे कम लाल रंग का होता है।


हाइड्रोजन परमाणु ही ऐसा परमाणु है जिसके नाभिक में न्यूट्रॉन नहीँ होता।


काँसा ताँबा तथा टिन का बना होता है, गन मैटल ताँबा, टिन तथा लैड का, पीतल ताँबा तथा जस्ते का तथा स्टेनलैस स्टील में लौहा, क्रोमियम, कार्बन तथा निकल मिले होते हैं।
कोबाल्ट 60 का उपयोग कैंसर रोग में, रेडियो समस्थानिक स्वर्ण 198 का उपयोग रक्त कैंसर के उपचार में किया जाता है।


कैडमियम का नाभिकीय रिएक्टर में शृंखला अभिक्रिया के नियंत्रक के रूप में उपयोग किया जाता है।


सूर्य तथा हाइड्रोजन बम में उत्सर्जित ऊर्जा संलयन प्रक्रिया के उदाहरण हैं।


वायरस जनित रोग— एड्स (एक्वाय

Purvanchal prahari

Ravindra singh bhatia

9755884666

Follow me in social media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *