स्टूडेंट्स को लक्ष्य प्राप्ति के लिए अच्छे प्रदर्शन कर्ता के रूप में भूमिका निभानी होगी :कलेक्टर


जशपुर नगर
आगामी बोर्ड परीक्षाओं के मद्देनजर यशस्वी जशपुर कार्यक्रम के तहत जिला कलेक्टर महादेव कावरे के विशेष निर्देशन में एवं यशस्वी जशपुर के नोडल अधिकारी विनोद कुमार गुप्ता के मार्गदर्शन में 10 वीं एवं 12 वीं बोर्ड के छात्रों के लिए ऑनलाइन करियर गाइडेंस कार्यशाला आयोजित की जा रही है ,जिसमें विशेषज्ञों की टीम द्वारा स्टूडेंट्स के जिज्ञासाओं एवं सवालों की समीक्षा की जा रही है।इस क्रम में रविवार को ऑनलाइन वर्कशॉप आयोजित हुई।
कार्यशाला को संबोधित करते हुए जिला कलेक्टर महादेव कावरे ने कहा कि हर किसी का सपना होता है कि वह जिंदगी की दौड़ में आगे निकल जाए लेकिन बिना लक्ष्य निर्धारण के यह संभव नहीं होता, परिश्रम एवं दृढ़ संकल्प के बल पर जिंदगी में हर स्पर्धाएँ जीती जा सकती है ।
विपरीत परिस्थितियों को जूझकर रेस में जो आगे निकलते हैं वे ही एक अच्छे एक्टर होते हैं, क्योंकि लक्ष्य प्राप्ति के लिए एक अच्छे परफार्मर के रूप में रोल निभाने पड़ते हैं,जो सफलता की दिशा एवं दशा तय करते हैं। सफलता का कोई रहस्य नहीं होता एवं यह कोई आकस्मिक संयोग भी नहीं होती,सफलता पाने के लिए धैर्य,एकाग्रता एवं सूक्ष्म अध्ययन करने की आवश्यकता होती है।
उन्होंने सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी के लिए समग्र जानकारी साझा करते हुए स्टूडेंटस से कहा कि वे नियमित प्रमुख समाचार पत्रों का अध्ययन करें ।इंटरनेट का उपयोग बेहतर सीख के लिए किया जा सकता है।उन्होंने अध्ययन सामग्री के चयन की प्रासंगिकता के लिए भी सुझाव दिए । इस दौरान छत्तीसगढ़ राज्य के कई जिलों के स्टूडेंट्स ने कलेक्टर से जिज्ञासा आधारित कई अहम सवाल पूछे जिसका जवाब उन्होंने विश्लेषणात्मक एवं मनोवैज्ञानिक तरीके से दिया।
उन्होंने इस कार्यशाला में यह भी कहा कि जशपुर जिले ने शिक्षा के क्षेत्र में उपलब्धियों के साथ जो नए आयाम स्थापित किए हैं ,यह निरंतरता बनी रहनी चाहिए।जिले का परीक्षा परिणाम बेहतर हो इसके लिए सभी को समर्पित भाव से कार्य करने की आवश्यकता है ।उन्होंने कार्यशाला में उपस्थित प्राचार्यों एवं शिक्षकों को इसके लिए जरूरी निर्देश भी दिए।
कार्यशाला को लाइव संबोधित करते हुए जशपुर डिवीजन के डीएफओ जाधव श्रीकृष्ण (आईएफएस) ने कहा परीक्षाओं में सफलता काफी हद तक इस बात पर निर्भर करती है कि स्टूडेंट्स के अध्ययन का तरीका किस प्रकार का है ,सभी विषयों में उत्कृष्ट अंक हासिल करने के लिए योजना के तहत अध्ययन की जरूरत होती है एवं समय प्रबंधन का भी ध्यान रखना होता है ।विषयों की योजना बनाते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है ,उन्होंने सभी महत्वपूर्ण विषयों में बेहतर प्रदर्शन करने के आइडिया साझा किए एवं कहा कि स्टूडेंट्स को विगत वर्षों के बोर्ड परीक्षा के प्रश्नों को परीक्षा पूर्व अवश्य विश्लेषण करना चाहिए इससे उन्हें परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के क्षेत्र एवं प्रश्नों के पैटर्न का पता चलेगा। गणित ,भौतिकी के अध्ययन में काफी सूक्ष्म अध्ययन की जरूरत होती है एवं तथ्यों को समझना होता है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए उन्होंने आइडिया शेयर करते हुए कहा कि इन परीक्षाओं में उच्च स्तरीय मापदंड होते हैं, इनका अध्ययन विश्लेषण करके किया जाना चाहिए ,विगत वर्षों में पूछे गए प्रैक्टिस पेपर अधिकाधिक हल करने से संभावित गलतियों को सुधारने का अवसर मिलेगा ।उन्होंने प्रयोगात्मक शिक्षा पर जोर देते हुए प्राचार्यों एवं शिक्षकों से कहा कि वे मनोवैज्ञानिक तरीके से प्रायोगिक एवं सूक्ष्म विश्लेषण करके आधारभूत शिक्षा पर फोकस करें इससे बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे ।उन्होंने इस वर्कशॉप को स्टूडेंट्स के कैरियर के लिए एक बेहतर कदम बताया। इस दौरान स्टूडेंट्स ने उनसे जिज्ञासा आधारित कई सवाल पूछे जिसका जबाब उन्होंने विश्लेषण करके दिया।
ऑनलाइन वर्क शॉप में नेशनल इनोवेशन फोरम ऑफ एक्सपर्टस टीम के विशेषज्ञों से स्टूडेंट्स ने जिज्ञासा आधारित कई अहम एवं रोचक सवाल पूछे जिसका विशेषज्ञों ने लाइव रिस्पांस दिया स्टूडेंट्स के पूछे गए सवाल के जवाब में जशपुर से विशेषज्ञ एसपी यादव ने कहा कि विषयों की जटिलता मनोवैज्ञानिक सोच पर निर्भर करती है ।भौतिक शास्त्र ,गणित ,रसायन शास्त्र ,जीव विज्ञान एवं अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर माइक्रो एवं एनालिटिकल अध्ययन कर उत्कृष्ट अंक प्राप्त किए जा सकते हैं। विषय गत समस्याओं को फेस करना हर स्टूडेंट्स के लिए चुनौती होता है लेकिन एक्सपेरिमेंट्स के आधार पर विषय की जटिलताओं को समझा जा सकता है। उन्होंने वर्कशॉप में स्टूडेंट्स को सिविल सर्विसेज एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में बेहतर सफलता के आईडिया शेयर किए ।
गुरु घासीदास सेंट्रल यूनिवर्सिटी बिलासपुर से वनस्पति शास्त्री दीपक कुमार सोनी ने स्टूडेंट्स को इंजीनियरिंग, अंतरिक्ष विज्ञान, एवं चिकित्सा के क्षेत्रों में कैरियर के विकल्प की जानकारी साझा की एवं स्टूडेंट्स के पूछे गए सवालों का विश्लेषण भी किया। जशपुर के विशेषज्ञ शिक्षक टी गोसाई ने स्टूडेंट को मोटिवेट करते हुए कहा कि परीक्षा से डर स्वाभाविक है लेकिन परीक्षा के दौरान आत्मविश्वास एवं धैर्य बनाए रखना चाहिए ,उन्होंने स्टूडेंट्स के पूछे गए सवालों का जवाब भी दिया ।
कार्यशाला में नेशनल इनोवेशन फोरम ऑफ एक्सपर्ट्स टीम के शीर्ष प्रशासनिक अधिकारियों, शिक्षा विभाग के शीर्ष अधिकारियों ,महाविद्यालय/विद्यालय के प्राचार्यों ,प्रोफेसर्स, एवं शिक्षकों ने महत्वपूर्ण योगदान दिया।
ऑनलाइन वर्कशॉप की जानकारी देते हुए जशपुर से नेशनल इनोवेशन फोरम के संयोजक एसपी यादव ने बताया कि ऑनलाइन वर्कशॉप में जशपुर सहित छत्तीसगढ़ राज्य के कई जिलों सहित भारत के विभिन्न राज्यों से 692 स्टूडेंट्स शामिल हुए एवं स्टूडेंट्स ने कार्यशाला को एक ऐतिहासिक कदम बताया।

Follow me in social media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *