महुआ सेनेटाईजर से बढ़ेगा जशपुर का मान:यू.डी. मिंज-महुआ सेनेटाईजर बनाने की प्रक्रिया देखने विधायक यू.डी. मिंज पहुंचे पंनचक्की

युवा वैज्ञानिक समर्थ जैन,वनविभाग व स्व-सहायता समूह की महिलाओं के प्रयास की सराहना

600 लीटर महुआ सेनेटाइजर उत्पादन के लिये लगाई जा रही बड़ी मशीन

महुआ सेनेटाइजर निर्माण से अभी 300 महिलाओं को रोजगार सृजित होगा: डीएफओ

जशपुरनगर:-विधायक यू.डी. मिंज आज ग्राम पनचक्की पहुंचकर जिला प्रशासन, वनविभाग, युवा वैज्ञानिक समर्थ जैन और वन विभाग की सिनगी स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा महुआ से हर्बल सेनेटाईजर बनाने की पूरी प्रक्रिया को समझा और देखा।

वनमण्डलाधिकारी श्री कृष्ण जाधव ,एसडीओ फारेस्ट सुरेश गुप्ता, समर्थ जैन,सरीन राज,रुद्रदामन पाठक, निर्मल सिंह,नरेश कुमावत स्वसहायता समूह की महिलाएं उपस्थित रही।

इस अवसर पर वनमण्डलाधिकारी श्रीकृष्ण जाधव जी ने विधायक यूडी मिंज जी को बताया कि महुआ सेनेटाइजर से 300 महिलाओं को रोजगार सृजित करने की दिशा में कार्य किया जा रहा अभी प्रतिदिन 50-60 लीटर महुआ सेनेटाइजर उत्पादन हो रहा है इसका नाम जशपुर मधुकम दिया गया है।

उन्होंने बताया कि हमारी कोशिश है कि प्रतिदिन कम से कम 600 लीटर का उत्पादन किया जाय इसके लिये बड़ी मशीन लगाई जा रही है

यह पूरी प्रक्रिया लगभग 10 दिन के अंदर पूरी हो जाएगी उन्होंने अवगत कराया कि इसके लिए वन धन केंद्र पनचक्की में एक बड़ा शेड बनाया जा रहा है जिसमें सभी हर्बल उत्पाद एक ही छत के नीचे तैयार किया जाएगा जल्द ही हम व्यवसायिक उत्पादन की ओर बढ़ रहे हैं जशपुर के सभी हर्बल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए हर सम्भव प्रयास किया जाएगा।यह सेनेटाईजर केमिकल मुक्त, 100 प्रतिशत् हर्बल युक्त उत्पादन है। आगामी कुछ दिनों में जिले के सन्ना, कुनकुरी, पत्थलगांव में सेनेटाईजर बनाने का कार्य प्रारंभ किया जाएगा। कोविड-19 कोरोना संक्रमण से मुक्त करने और लोगों के लिए हर्बल युक्त प्राकृतिक पद्धति से सेनेटाईजर बनाया गया है। जिसका उपयोग जशपुर के लोगों के साथ प्रदेश के लोग भी कम कीमत पर  सेनेटाईजर का उपयोग आसानी से कर सकेगें। उन्होंने बताया कि समूह की महिलाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है। स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा मेहनत करके सेनेटाईजर का निर्माण किया जा रहा है। महिलाएं तीन सिफ्टों में कार्य कर रही हैं और प्रतिदिन 60 लीटर सेनेटाईजर बना रही है। आगामी दिनों मे हमारा प्रयास रहेगा कि प्रतिदिन 300-500 लीटर तैयार करके लोगों तक इसका लाभ पहुंचाएगें और अधिक से अधिक महिलाओं को जोड़कर उन्हें आर्थिक रूप से सक्षम बनाने का भी प्रयास करेंगे।  

कुनकुरी विधायक ने बताया कि इस बात की प्रसन्नता है कि अब जिले की प्रतिभाएं जिले के नाम रोशन करने के लिए आगे आ रहीं हैं । जशपुर के वैज्ञानिक एवं रिसर्चर श्री समर्थ जैन ने महुआ के फूल का परिशोधन कर उससे आज की परिस्थितियों के अनुकल कोरोना से लड़ने के लिए महुआ सेनेटाइजर बनाया है जिसका अच्छा परिणाम आया है हमारे मुख्यमंत्री जी सम्मानीय भूपेश बघेल जी ने भी इसकी सराहना की है इसे वन विभाग जितनी ततपरता से इसके लिए काम कर रहा है, स्वसहायता समूह की महिलाएं जितनी मेहनत से इसमें काम कर रही है उनको बधाई देता हूँ । सभी को प्रोत्साहित करना हम सबकी जिम्मेदारी है माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी ,स्वस्थ्य मंत्री आदरणीय टी एस सिंहदेव जी को इस महुआ सेनेटाइजर को आगे पूरे राज्य में इसके उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए एकमत हैं उन्होंने बताया कि इससे इससे ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को बेहतर रोजगार मिलेगा और उनकी आर्थिक स्तर में सुधार होगा। जिले में होने वाले वनोपज का सदुपयोग औषधि क्षेत्र में किया जाना अपने आप एक ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की दिशा में आर्थिक कदम होगा ।देश कोरोना वायरस संक्रमण से गुजर रहा है इस दौरान जशपुर जिले में सेनेटाईजर की खोज से देश को इसका लाभ मिलेगा। जशपुर जिले में वनोपज महुआ भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

इस तकनीक को विकसित करने वाले श्री समर्थ जैन ने बताया कि महुआ सेनेटाइजर जिसे जशपुर मधुकम के नाम से व्यवसायिक रूप से उत्पाद विक्रय के लिए तैयार है जिसे सिनगी महिला स्वसहायता के द्वारा विक्रय किया जा रहा है अभी हम बड़ी मशीन लगाने की तैयारी में जिससे उत्पादन क्षमता में बढ़ोतरी हो सके। यह पूरी तरह हर्बल सेन्टाइज़र है जो कि पूरी तरह WHO के निर्धारित मापदंड के अनुसार तैयार किया गया है जिसमें किसी प्रकार का केमिकल उपयोग नहीं किया गया है इससे त्वचा भी अच्छी रहती है इससे किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं है।

Follow me in social media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *