प्राथमिक शिक्षा के स्तर को बढ़ावा देने आकांक्षा प्रोग्राम शुरू जिला प्रशासन एवं यूनिसेफ की विशेष पहल

जशपुरनगर 28 सितंबर 2019/ जशपुर जिले में प्राथमिक शिक्षा स्तर को बेहतर बनाने के उद्देश्य से जिला प्रशासन एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वाधान में आकांक्षा नाम से एक अभिनव कार्यक्रम शुरू किया गया है। प्रथम चरण में यह कार्यक्रम  जिले के दुलदुला विकासखंड के 109 स्कूलों में संचालित होगा। आकांक्षा कार्यक्रम का उद्देश्य  बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं उनके शारीरिक, बौद्धिक विकास को बढ़ावा देना है। जिला प्रशासन एवं यूनिसेफ द्वारा आकांक्षा कार्यक्रम के बेहतर क्रियान्वयन के लिए बेस लाईन मैपिंग प्रशिक्षण एवं सर्वे का काम शुरू कर दिया गया है। यहां यह उल्लेखनीय है कि आकांक्षा कार्यक्रम के बेसलाईन मैपिंग प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षण के लिए डाईट में डी.ई-एल.ई-डी के 50 छात्र-छात्राओं एवं 14 बीआरसी को गहन प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
कलेक्टर श्री निलेशकुमार महादेव क्षीरसागर ने आज जशपुर स्थित डाईट में यूनिसेफ के विषय विषेशज्ञ श्री सैय्यद परवेज एवं श्री विकास भदौरिया द्वारा दिए जा रहे प्रशिक्षण का मुआयना किया और प्रशिक्षणार्थियों से स्कूलों सर्वेक्षण रिपोर्ट के बारे में जानकारी ली। कलेक्टर ने इस मौके पर कहा कि जिले में प्राथमिक शिक्षा की व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए यह कार्यक्रम पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर दुलदुला विकासखंड में शुरू किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से बच्चों को स्पोर्ट फार डेवलपमेंट एवं अर्ली ग्रेट एजुकेशन दिया जाएगा। शिक्षकों को प्रशिक्षण देने के साथ ही दुलदुला ब्लाॅक के सभी 109 स्कूलों में लाईब्रेरी स्थापित की जाएगी। इसमें बच्चों की उम्र के हिसाब से उनके बौद्धिक विकास के लिए पुस्तकें होंगी। इसके लिए अंतर्राष्ट्रीय संस्था रूम टू रीड से आवश्यक मदद ली जाएगी। बच्चों के शारीरिक विकास के लिए स्पोर्ट्स  फाॅर डेव्लपमेंट  प्रोजेक्ट भी शुरू किया जाएगा। इसके माध्यम से परम्परागत एवं नवीन खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेल सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी और शिक्षकों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।
कलेक्टर ने प्रशिक्षणार्थियों को बेसलाईन सर्वे के काम को पूरी संजीदगी से पूरा करने की बात कही। उन्होंने इस अवसर पर अपने अध्ययनकाल एवं शासकीय सेवा के प्रशिक्षण के अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि जो भी संसाधन उपलब्ध हैं उसमें बेहतर परिणाम देना हम सब का लक्ष्य होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम जहां और जिस स्थिति में है उसमें समाज की बेहतरी के लिए क्या-क्या कर सकते हैं। यह सोचना और करना चाहिए। प्राचार्य श्री विनोद गुप्ता ने आकांक्षा प्रोग्राम के बारे में विस्तार से जानकारी दी और कहा कि इस प्रोग्राम को पूरे प्रदेश के लिए माॅडल बनाना हम सब की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि बेसलाईन मैपिंग जशपुर एवं दुलदुला ब्लाॅक के 30-30 स्कूलों में की जाएगी। इसके पश्चात् दुलदुला ब्लाॅक के 109 स्कूलों में आकांक्षा प्रोग्राम को शुरू किया जाएगा। एक वर्ष के पश्चात् पुनः सर्वे कर बच्चों के शिक्षा एवं शारीरिक व बौद्धिक विकास का आंकलन किया जाएगा। इस अवसर पर एसडीएम श्री दशरथ राजपूत, संस्था के प्राचार्य श्री बी.बखला, प्राध्यापक श्री सोनवानी,  संजीव शर्मा एवं अन्य प्राध्यापक उपस्थित थे।

Follow me in social media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *