पोला एवम् तीज पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं -संत कवि पवन दीवान जी की रचना का संकलन डॉ निर्मला शर्मा

संत कवि पवन दीवान जी की रचना ..
झेंझरी के ठेठरी
बच्छर म एक दिन आथे ये तीजा
चुररुस ले बाजे करेला के बीजा
पहिरे बर मिलथे वो रंग रंग के लुगरा
लुगरा बर कर डारेन कूद कूद के झगरा
रात भर मसके हन करू करू भात
दिनभर उपास करेन नारी के जात
लेत बरेत चुल्हा म चढ़गे तेलई
झेंझरी के ठेठरी ल खा दिस बिलई
थूके थूक म बरा चूरे लार म सोंहारी
लटपट चबावत हे रोगही मुखारी
धकर धकर जीव करे लकर लकर बुता
हरु हरु चूरी अउ गरु गरु सुता
चल वो बिसाहिन घर बइठे बर जाबो
घरो घर जाबो अउ फेँकत ले खाबो
गाँव भर देख लेबो सबे के तीजहा
सही सही के सब दुःख ल तन होगे सिजहा
रोज रोज नइ पावन मइके के कोरा
फेर जल्दी आबे रे तीजा अउ पोरा

पोला एवम् तीज पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं…

Follow me in social media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *