गर्मी के मौसम में विभिन्न बीमारियों से बचाव हेतु रहे अलर्ट

Sharing is caring!


जशपुरनगर 27 अपै्रल 2019/ मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस.एस.पैंकरा ने गर्मी व लू से बचाव के लिए सभी लोगों को अलर्ट रहन की सूचना देते हुए इससे बचचे के उपायों की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि हीट वेवॅ लू के कारण शरीर की कार्य प्रणाली प्रभावित हो जाती है जिससे मृत्यु भी होने की संभावना रहती है। इसलिए इससे बचाव बहुत ही जरुरी है। थोडी से सावधानी को अपनाकर इससे बचाव किया जा सकता है। उन्होंने सभी लोगों से कहा वह अधिक से अधिक पानी पियें, यदि प्यास न लगी हो तब भी पानी का सेवन अवश्य करने के निर्देश दिए है। साथ ही उन्होंने पसीना सोखने वाले पतले व हल्के रंग के वस्त्र ही पहनें और धूप में जाने से बचने की बात कही है। यदि धूप में जाना जरुरी हो तो चष्में, छाते टोपी व चप्पल आदि का प्रयोग करें, अगर आप खुले में कार्य करते हैं तो सिर, चेहरा, हाथ पैरों को गीले कपडें से ढके ंरहें और यदि संभव हो तो छातें का उपयोग करें, यात्रा करतें समय अपने साथ पर्याप्त मात्रा में स्वच्छ पीने का पानी रखें, ओ0आर0एस0 घर मे बने हुए पेय पदार्थ जैसे लस्सी, चावल का पानी (माड), नींबू पानी, छाछ आदि का उपयोग करें जिससे कि शरीर में पानी की कमी की भरपाई हो सके, हीट स्ट्रोक (लू) हीट रेष (घमौरिया), हीट क्रैम्प (मरोड/ऐंठन) के लक्षणों में शरीर में कमजोरी का होना, चक्कर आना, सिर दर्द, उबकाई आना, पसीना आना और कभी-कभी बेहोषी आना प्रमुख है, यदि मूर्छा या बीमारी अनुभव करतें हैं तो तुरन्त चिकित्सीय सलाह से उपचार लें।
इसके अलावा उन्होंने बताया कि घरेलू/पालतू जानवरों को हवादार स्थान पर रखें और उन्हें पर्याप्त मात्रा में पानी पीने को दें, अपने घरों को ठंडा रखें, दरवाजे व खिडकियां पर पर्दे लगवाना उचित होता है। सायंकाल व प्रातः के समय घर के दरवाजे खिडकियों को खुला रखें ताकि कमरे ठंडे रहे, श्रमसाघ्य कार्यो को ठंडे समय में करने/कराने का प्रयास करें।  कमिर्यो की सीधी सूर्य की रोषनी से बचने से सावधान करें, पंखे, गीले कपडो का उपयोग तथा बारम्बार स्नान करें। उन्होने यह भी बताया कि गर्मी और लू से बचाव करने हेतु बच्चों व पालतू जानवरों को खडी कारों/गाडियों में न छोडें, यदि संभव हो तो दोपहर 11.00 बजें से अपरान्ह 04.00 बजें के मघ्य धूप में निकलने से बचें, गहरे रंग के भारी तथा तंग कपडे न पहने,  जब बाहर का तापमान अधिक हो तब श्रमसाघ्य कार्य न करें तथा आकस्मिक स्थिति में रोगी को नजदीकी सामुदायिक/प्रा.स्वा0केंद्र या जिला चिकित्सालय में जाने हेतु 108 एंबुलेंस सेवा का निःषुल्क लाभ लेने की सलाह दी है

Follow me in social media

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *